इन्द्र जिमि जंभपर , वाडव सुअंभपर | – कविराज भूषण

इन्द्र जिमि जंभपर वाडव सुअंभपर,इन्द्र जिमि जंभ पर, बाडब सुअंभ पर, रावन सदंभ पर, रघुकुल राज हैं।,इंद्र जिमि जंभ पर व्याख्या,इंद्र जिमि जंभ पर में अलंकार

इन्द्र जिमि जंभपर , वाडव सुअंभपर | -  कविराज भूषण
इन्द्र जिमि जंभपर , वाडव सुअंभपर |
रावन सदंभपर , रघुकुल राज है || 1 ||

पौन बरिबाहपर , संभु रतिनाहपर |
ज्यो सहसबाहपर , राम द्विजराज है || 2 ||

दावा द्रुमदंडपर , चीता मृगझुंडपर |
भूषण वितुण्डपर , जैसे मृगराज है || 3 ||

तेजतम अंसपर , कन्हजिमि कंसपर |
तो म्लेंच्छ बंसपर , शेर सिवराज है || 4 ||
इन्द्र जिमि जंभपर वाडव सुअंभपर,इन्द्र जिमि जंभ पर, बाडब सुअंभ पर, रावन सदंभ पर, रघुकुल राज हैं।,इंद्र जिमि जंभ पर व्याख्या,इंद्र जिमि जंभ पर में अलंकार,शिवबावनी मराठी,गरुड़ को दावा जैसे नाग के समूह पर,भूषण ने शिवाजी का दावा किस पर बताया,तेज तम अंस पर अर्थ
share all this post on 
whatsapp,facebook,instagram and sharechat ,Telegram with your relatives,friends,family.. 
thanks for visit marathi life

Leave a Comment